UGC New Rule 2022: अब ग्रेजुएशन के बाद कर सकेंगे पीएचडी, जानें पूरी डिटेल

UGC New Rule : विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने उन छात्रों को अनुमति देने का प्रस्ताव किया है जिन्होंने चार साल का स्नातक पाठ्यक्रम पूरा कर लिया है। अब यह छात्र पीएचडी कोर्स पूरा कर सकता है।

केवल वे उम्मीदवार जो FYUP पास करेंगे, उन्हें पीएचडी के लिए योग्य माना जाएगा। इसके लिए छात्रों को एफवाईयूपी में कम से कम 7.5 सीजीपीए या उससे अधिक का स्कोर मार्क लाना होगा।

UGC New Rule

UGC New Rule में छात्रों का 7.5 CGPA होना जरुरी

आपको बता दें कि सीजीपीए एक तरह का ग्रेड पॉइंट है जिसके आधार पर नंबर देखा जाता है। पहले सीजीपीए की जगह पर प्रतिशतता हुआ करती थी। सीजीपीए को 10 के कुल पैमाने पर मापा जाता है। यानी परीक्षा पास करने के लिए छात्रों के पास कम से कम 7.5 सीजीपीए अंक होना बहुत जरूरी है।

UGC New Rule में मिलेगा FYUP को बढ़ावा

UGC रेगेड होने वाला है 2022 जून तक समाप्त होने वाला है और 2022 – 2023 रोजगार से योजना की उम्मीद कर सकता है। समस्या का सामना करना पड़ता है। NEP के व्यवहार के अनुसार जो विद्यार्थी 4 साल की शिक्षा के बाद पीएचडी करने के बाद। मौसम के 7.5 सीजीपीए जापान होने वाली है।

परिवर्तन अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग और परिवर्तन को 0.5 सीजीपीए की निष्क्रियता। इस लिए 7 सीजीपीए पता होना चाहिए।

UGC New Rule में अब होगा चार साल का ग्रेजुएशन

UGC का नया नियम एचईआई में अनुसंधान पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ावा देने के लिए चार साल के स्नातकों को पीएचडी करने के लिए प्रोत्साहित करता है। इसे देखते हुए हम उन छात्रों को पीएचडी करने की अनुमति दे रहे हैं, जिनके 7.5 सीजीपीए या उससे अधिक अंक हैं। जिन छात्रों ने 7.5 सीजीपीए से कम अंक प्राप्त किए हैं, उन छात्रों को एक साल की मास्टर डिग्री करने के बाद पीएचडी करनी होगी।

UGC New Rule में 40 % सीट टेस्ट के माध्यम से भरी जाएंगी

UGC के नए नियमों के मुताबिक, खाली सीटों में से 40 फीसदी सीटें यूनिवर्सिटी लेवल एंट्रेंस टेस्ट के आधार पर भरी जाएंगी। इसके अलावा सीटों को भरने के दो तरीके हैं। इसमें राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षा के आधार पर 100 फीसदी सीट भरी जा सकती है।

दूसरा 60:40 अनुपात में भरा जाता है। यदि रिक्त सीटों को राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा से भरा जाता है। इसलिए ऐसे छात्रों का चयन मेरिट लिस्ट के आधार पर होगा। इंटरव्यू और वाइवा टेस्ट का वेटेज 100% होगा।

UGC New Rule में रहेंगे ये विषय:-

यूजी पाठ्यक्रमों के पहले तीन सेमेस्टर पाठ्यक्रम में भाषा, भारत को समझना, पर्यावरण विज्ञान, डिजिटल और तकनीकी समाधान, गणितीय और कम्प्यूटेशनल सोच और विश्लेषण, स्वास्थ्य और कल्याण, योग जैसे सामान्य पाठ्यक्रम शामिल होंगे। खेल और फिटनेस और मानविकी, प्राकृतिक और सामाजिक विज्ञान में परिचयात्मक पाठ्यक्रम होने चाहिए। तीसरे सेमेस्टर के बाद छात्र विशेषज्ञता के लिए एक मेजर और दो माइनर घोषित करेंगे।

निष्कर्ष – UGC New Rule 2022

इस तरह से आप अपना UGC New Rule 2022 चेक कर सकते हैं, अगर आपको इससे संबंधित और भी कोई जानकारी चाहिए तो हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं |

दोस्तों यह थी आज की UGC New Rule 2022 के बारें में सम्पूर्ण जानकारी इस पोस्ट में आपको UGC New Rule 2022, इसकी सम्पूर्ण जानकारी बताने कोशिश की गयी है |

ताकि आपके UGC New Rule 2022 से जुडी जितने भी सारे सवालो है, उन सारे सवालो का जवाब इस आर्टिकल में मिल सके |

तो दोस्तों कैसी लगी आज की यह जानकारी, आप हमें Comment box में बताना ना भूले, और यदि इस आर्टिकल से जुडी आपके पास कोई सवाल या किसी प्रकार का सुझाव हो तो हमें जरुर बताएं |

और इस पोस्ट से मिलने वाली जानकारी अपने दोस्तों के साथ भी Social Media Sites जैसे- Facebook, twitter पर ज़रुर शेयर करें |

ताकि उन लोगो तक भी यह जानकारी पहुच सके जिन्हें UGC New Rule 2022 पोर्टल की जानकारी का लाभ उन्हें भी मिल सके|

Important Link

Join Telegram Group
new
Click Here

Leave a Comment

x